Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

मानव संस्कृति में हजारों साल पहले से ही ‘योग’ हमारी दैनिक जीवन शैली का हिस्सा रहा है। योग एक अत्यन्त प्राचीन और कारगर तकनीक है जो मानव को उसके ऊँचे से ऊँचे आयामों,क्षमताओं और सम्भावनाओं तक ले जाने में सर्वदा सक्षम है। योग की एकाधिक विधाओं ने सम्मिलित रूप से अध्यात्म के आसमान में अनेक … Read more

आजकल श़हजाद का रुख़ किस तरफ है

आजकल श़हजाद का रुख़ किस तरफ है… आजकल श़हजाद का रुख़ किस तरफ है।भीगना है,प्यार की बरसात का रुख़ किस तरफ है।मैं ढूँढ़ता सारे जहाँ में खुशबुऐं जिस फूल की,कोई बतायेगा? ‘चमन के नाज़’ का रुख़ किस तरफ है।ना शिक़ायत,ना गिला,नाराज़गी है।प्यार की सरगम सुनाती जिन्दगी है।चल पड़ेगा बाँवरा मन उस तरफ,महबूब के दीदार का … Read more

ये शादाब चेहरा ये शफ्फाक आँखे

ये शादाब चेहरा ये शफ्फाक आँखे ये शादाब चेहरा ये शफ्फाक आँखे।ये जुल्फें घनेरी ये मुस्कान तेरी।कहीं दिल में हलचल सी तो हो रही है।कहीं भावनायें बही जा रही है।कहीं तो कुमुद सी कली खिल रही है।कहीं बूंद बारिश धरा मिल रही है।तुम्हें देख धडकन धड़कते-धड़कते।कहीं जिस्म की तोड दे ना सलाखें ।ये शादाब चेहरा,ये … Read more

उत्तराखंडी शादी – शुद्ध पहाड़ी प्रेम

शादी शब्द सुनते ही दिमाग में कई कहानिया बनने लगती हैं | आजकल पहले प्रेम कहानी होती है, फिर परिवारों का मिलना जुलना होता है, फिर शादी होती है , लेकिन किसी जमाने में हमारे उत्तराखंड में पहले परिवार मिलते थे फिर शादी हो जाती थी और फिर होता था प्रेम…  तो यह लेख भी उसी … Read more

Any Query? WhatsApp us whatsapp